Wednesday , November 20 2019

बड़ी खबर: महाराष्ट्र के CM देवेंद्र फडणवीस ने दिया इस्‍तीफा, PM मोदी पर टिप्पणी करने को लेकर शिवसेना पर निकाली जमकर भड़ास !!!

(Pi Bureau)

देवेंद्र फडणवीस ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया है। फडणवीस और राज्य के अन्य मंत्रियों ने शुक्रवार को राजभवन में राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से मुलाकात की और अपना इस्तीफा सौंपा। हालांकि वह कार्यवाहक मुख्यमंत्री की भूमिका निभाते रहेंगे। फडवणीस ने यह भी कहा कि शिवसेना ने कई बार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर टिप्पणी की, जिसे स्वीकार नहीं किया जा सकता।

उन्होंने कहा कि विपक्ष अगर हमारी आलोचना करती है, तो यह समझ में आता है। मगर शिवसेना सरकार के बारे में कुछ कहती है, तो यह अस्वीकार्य है। फडणवीस ने कहा कि अगर हम साथ रहते हैं और शिव सेना प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की आलोचना करना जारी रखना चाहता है, तो हम भी सवाल उठाएंगे। उन्होंने पीएम मोदी के खिलाफ जो टिप्पणियां कीं, उससे हमें दुख हुआ है। इस्तीफा देने के बाद भी फडणवीस कार्यवाहक मुख्यमंत्री के तौर पर काम करते रहेंगे। उन्होंने बताया कि राज्यपाल ने उन्हें नई सरकार बनने तक यह जिम्मेदारी संभालने को कहा है। 

इस्तीफा देने के बाद फडणवीस मीडिया से भी रूबरू हुए और अपनी सरकार की उपलब्धियों को गिनाया। परिणाम आने के 15 दिन बाद तक भी सरकार बनाने पर फैसला नहीं होने पर फडणवीस ने कहा कि यह जनादेश का अपमान है। पांच साल तक सरकार चलाने के लिए उन्होंने महाराष्ट्र की जनता और शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे का आभार जताया। फडणवीस ने कहा कि पांच साल के कार्यकाल में हमने जनता के विकास के लिए काफी काम किए। इसी काम के दम पर जनता ने फिर से एनडीए को चुना है।

फडणवीस ने कहा कि पांच साल के कार्यकाल में हमने जनता के विकास के लिए काफी काम किए। इसी काम के दम पर जनता ने फिर से एनडीए को चुना है। शिवसेना के साथ 50-50 फॉर्मूले पर उन्होंने कहा कि ढाई-ढाई साल के मुख्यमंत्री पर को लेकर ऐसी कोई बात नहीं हुई थी। फडणवीस ने कहा, ‘मैं फिर से स्पष्ट करना चाहता हूं कि मैंने कभी भी ढाई-ढाई साल के मुख्यमंत्री पद की बात नहीं की। ऐसा कोई फैसला नहीं हुआ। यहां तक कि अमित शाहजी और नितिन गडकरीजी का भी यही कहना है।’

देवेंद्र फडणवीस ने कहा, ‘उद्धवजी ने मेरा फोन नहीं उठाया। हमने चर्चा बंद नहीं की। उन्होंने हमसे बात करना बंद कर दिया।’ उन्होंने कहा कि हो सकता है कि वे नाराज हों और हमसे बात करने में थोड़ा समय लें। मगर यह बेहद दुर्भाग्यजनक रहा कि शिव सेना ने कांग्रेस और एनसीपी से दिन में 2 से तीन बार बात करना शुरू कर दी।

15 दिनों की खींचतान के बावजूद गतिरोध नहीं सुलझने के बाद देवेंद्र फडणवीस को इस्तीफा देना पड़ा। इससे स्पष्ट है कि वर्चस्व की लड़ाई में फडणवीस पिछड़ गए। हालांकि सूत्रों का यह भी कहना है कि फडणवीस का इस्तीफा दिलाकर भाजपा किसी नए चेहरे का दांव अजमाने पर विचार कर सकती है। 

अभी तक किसी भी दल ने राज्य में सरकार बनाने दावा नहीं पेश किया है। माना जा रहा है कि कांग्रेस और एनसीपी भाजपा के पस्त होने के बाद ही अपने पत्ते खोलेगी। उन्हें  शिवसेना के एनडीए से बाहर आने की घोषणा का इंतजार है। ऐसे में कल यानी शनिवार तक ही पूरे मामले में तस्वीर साफ हो सकती है। 

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com