एटीएम से रुपये निकालने और खाते में न्यूनतम राशि को लेकर आज से बदल गए नियम..!!!

(Pi Bureau)

नई दिल्ली : कोरोना महामारी के चलते घोषित हुए लॉकडाउन के कारण वित्त मंत्री निर्मला सीतामरण ने लोगों को एटीएम चार्जेज और सेविंग अकाउंट्स में न्‍यूनतम राशि रखने की बाध्‍यता को लेकर राहत दी थी। एटीएम से कितनी बार भी पैसा निकालने और अपने बचत खाते में न्यूनतम राशि को लेकर वित्त मंत्री ने 3 महीने ​के लिये छूट दी थी। वित्त मंत्री द्वारा लोगों को मिली यह छूट 24 मार्च से शुरू होकर 30 जून तक के लिए ही थी। यानी आज 1 जुलाई से ये नियम बदल जायेंगे। गौरतलब हो कि सरकार ने कहा था कि यह छूट इसलिए दी गई है ताकि कैश निकालने के लिए लोगों को घर से दूर ना जाना पड़े।

बता दें देश में सभी बैंक बचत खाते में न्यूनतम राशि रखवाते हैं। न्यूनतम राशि नहीं होने पर ग्राहकों पर बैंक पेनाल्‍टी भी लगाते हैं। केंद्र सरकार की तरफ से बचत खाते में न्यूनतम राशि को लेकर मिली छूट खत्‍म होने के बाद अब तक किसी भी बैंक ने इसे आगे बढ़ाने की घोषणा नहीं की है। वहीं वित्त मंत्रालय की तरफ से भी इसे जारी रखने की अभी तक कोई जानकारी नहीं आई है। ऐसे में यही माना जा रहा है कि अब एटीएम चार्जेज और न्यूनतम राशि की छूट बंद हो जाएगी।

लॉकडाउन के कारण प्रभावित हुई अर्थव्यवस्था को देखते हुए ऐसा माना जा रहा है कि अब से बचत खाते में न्यूनतम राशि 5000 से 10000 रुपये के बीच रखने का प्रावधान भी जारी हो सकता है। प्रीमियम अकाउंट्स के लिए यह राशि ज्‍यादा भी हो सकती है। हिताची पेमेंट सर्विस के एमडी व सीईओ रुस्‍तम ईरानी ने कहा कि सरकार की ओर से ये दोनों छूट देने का फैसला बहुत अच्‍छा था, लेकिन इसे आगे बढ़ाने को लेकर अभी तक कोई फैसला नहीं लिया गया है।

वहीं कंफेडरेशन ऑफ एटीएम इंडस्‍ट्री के डायरेक्‍टर के श्रीनिवास का कहना है कि एटीएम ट्रांजैक्‍शन लिमिट में छूट के बाद भी लॉकडाउन के कारण लेनदेन प्रभावित हुआ है। अभी भी लोग एटीएम से पैसे निकालने कम ही पहुंच रहे हैं। अनलॉक की घोषणा के साथ तमाम कारोबारी गतिविधियां धीरे-धीरे पटरी पर लौट रही हैं, लेकिन एटीएम ट्रांजैक्‍शन की स्थिति अभी तक कोविड-19 से पहले वाले स्‍तर पर नहीं पहुंच पाई है। आरबीआई के आंकड़ों के मुताबिक एटीएम ट्रांजैक्‍शन में कम से कम 30 फीसदी की कमी आई है। ऐसे में एटीएम ट्रांजैक्‍शन लिमिट को आगे बढ़ाया जाना चाहिए। उन्‍होंने कहा कि अभी हालात सामान्‍य होने में वक्‍त लगेगा।

बता दें कि आमतौर पर कोई भी बैंक एक महीने में सर्फ पांच बार ही फ्री में लेनदेन करने की सुविधा देते हैं। अन्य बैंकों के एटीएम के लिए यह लिमिट तीन बार की ही होती है। इस लिमिट से ज्यादा बार एटीएम ट्रांजैक्शन करने के लिए बैंक ग्राहकों से आठ से बीस रुपये तक का अतिरिक्त चार्ज वसूलते हैं। यह चार्ज इस बात पर भी निर्भर करता है कि ग्राहक ने कितनी रकम का लेनदेन किया है।

Loading...