यूपी में नहीं हो रहा क्राइम कंट्रोल, कानपुर और गोंडा के बाद अब CM योगी के शहर में अपहृत छात्र की हत्या कर फेंकी गई लाश !!!

(Pi Bureau)

गोरखपुर.  कानपुर और गोंडा के बाद अब मुख्यमंत्री के शहर गोरखपुर में एक बच्चे के किडनैप होने का मामला सामने आया है। इस मामले में यूपी पुलिस और एसटीएफ फेल हो गई है। अपराधियों ने मासूम की हत्‍या कर दी है और पुलिस ने उसका शव बरामद किया है।

गोरखपुर के पिपराइच थाना क्षेत्र स्थित जंगल छत्रधारी के मिश्रौलिया टोला निवासी महाजन गुप्ता घर में ही किराना की दुकान चलाते हैं और जमीन के कारोबार से जुड़े हैं। पांचवीं में पढ़ने वाला उनका बेटा बलराम रविवार की दोपहर में 12 बजे घर से खेलने जाने को कहकर निकला था। इसके बाद उसका अपरहण हो गया। बलराम के घर वालों के पास रविवार को अलग-अलग समय पर तीन फोन कॉल आई। फोन करने वालों ने एक करोड़ रुपये की फिरौती मांगी। पहले तो महाजन ने इसे किसी की शरारत समझी लेकिन देर शाम तक बच्चे का कुछ पता नहीं चला तो उन्होंने पुलिस को सूचना दे दी। बालक के अपहरण और एक करोड़ रुपये फिरौती मांगे जाने की सूचना ने पुलिस के होश उड़ा दिए। एसएसपी ने इस मामले में एसटीएफ और क्राइम ब्रांच को लगा दिया।

एक करोड़ की फिरौती की रकम और बच्चे के अपहरण की खबर से इलाके में हड़कंप मच गया। कारोबारी की पांच बेटियों में बलराम एकलौता बेटा था। वहीं एक बात गौर करने वाली है कि हाल ही में महाजन गुप्‍ता ने बीस लाख रुपये की एक जमीन बेंची थी। शायद इसी की भनक अपहरणकर्ताओं को लगी थी। अब पटेलिया पुल के पास से उसका शव बरामद हुआ है। इसकी सूचना जैसे ही परिजनों को मिली घर में कोहराम मच गया।

बच्चे की तलाश में लगी पुलिस ने तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया। पूछताछ में पता चला है कि उन्होंने बच्चे की हत्या करने के बाद फिरौती की कॉल की थी। इस मामले में पुलिस आगे जांच कर रही है।

डॉ. सुनील गुप्ता, एसएसपी ने बताया कि शुरुआती जांच में बच्चे के अपहरण की वजह तो पैसा ही समझ में आ रहा है पर अन्य पहलुओं की भी पड़ताल की जा रही है। यह जानने की भी कोशिश हो रही है कि अगर उन्हें पैसा ही चाहिए था तो उन्होंने बच्चे की जान क्यों ली। अन्य आरोपियों के पकड़े जाने के बाद ही सही वजह सामने आ पाएगी।

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *