मैनपुरी उपचुनाव:: तो इस तरह से बहू डिंपल को जिताने के लिए जी जान से जुटे चाचा शिवपाल, जानिए क्या हैं प्लान !!!

(Pi Bureau)

नेताजी मुलायम सिंह यादव के निधन के बाद हो रहे मैनपुरी संसदीय सीट के उपचुनाव में समाजवादी पार्टी के उम्मीदवार बहू डिंपल यादव को जिताने के लिए, जहां पार्टी का बड़े से लेकर बूथ स्तर तक का कार्यकर्ता सक्रिय हो चुका है, वहीं दूसरी ओर सबसे अहम भूमिका में प्रगतिशील समाजवादी पार्टी लोहिया के राष्ट्रीय अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव आ गए हैं. राजनीतिक टीकाकारों की मानें तो चाचा शिवपाल सिंह यादव बहू डिंपल यादव को नेताजी मुलायम सिंह यादव की तरह सदन में पहुंचाने के लिए पूरी तरह से लामबंद हो गए हैं. सही मायने में कहा जाए तो शिवपाल की भूमिका किसी संकटमोचक से कम नहीं है.

प्रसपा कार्यकर्ता भी जी जान से जुटे
जब शिवपाल सिंह यादव अपने कार्यकर्ताओं से इन बातों का जिक्र कर उनसे डिंपल यादव को जिताने के लिए कहते हैं तो कार्यकर्ता इस बात का भरोसा दिलाता है कि आप बेफिक्र रहिए, आपका आदेश सिर माथे पर रहेगा. मैनपुरी संसदीय सीट के चुनाव में शिवपाल सिंह यादव की भूमिका को बेहद महत्वपूर्ण बना दिया है. जहां समाजवादी पार्टी ने शिवपाल सिंह यादव को स्टार प्रचारक बनाया, उसके बाद अखिलेश अपने चाचा शिवपाल से मिलने उनके घर पत्नी डिंपल के साथ पहुंचे. इसके बाद से ही शिवपाल ने डिंपल को जिताने का जिम्मा उठा लिया है. शिवपाल सिंह यादव का सीधा संदेश मिलने के बाद कई कार्यकर्ता यह कहते हुए देखे गए कि डिंपल यादव की जीत नेताजी मुलायम सिंह यादव से दोगुनी मतों से होगी.

जसवंतनगर विधानसभा की भूमिका हुई महत्वपूर्ण
प्रसपा के प्रदेश अध्यक्ष व शिवपाल यादव के बेटे आदित्य यादव ने भी कार्यकर्ताओं से डिंपल यादव के समर्थन में प्रचार करने का एलान किया है. असल में शिवपाल सिंह यादव जिस जसवंतनगर विधानसभा से 1996 से लगातार निर्वाचित होते हुए चले आ रहे हैं, यह विधानसभा सीट मैनपुरी संसदीय सीट के लिए कहीं ना कहीं संकटमोचक या फिर जीवन रक्षक की भूमिका में नजर आ रही है. इस विधानसभा सीट पर शिवपाल सिंह यादव ऐसे ही काबिज नहीं है. शिवपाल सिंह यादव ने अपने ऐसे कार्यकर्ता बनाए हुए हैं जो लगातार आंख मूंद कर उनके लिए वोट डालने के लिए तैयार और तत्पर रहते हैं.

About somali