केंद्र सरकार का बड़ा कदम:: अब इस तरह से महंगे प्‍याज-आलू-टमाटर से मिलेगी राहत !!!

(Pi bureau)

प्‍याज, टमाटर और आलू की कीमतें कुछ हफ्तों से लगातार बढ़ रही हैं, जबकि इन तीनों चीजों का देश के ज्‍यादातर घरों में सबसे ज्‍यादा इस्‍तेमाल होता है. ऐसे में इनकी कीमतों में बढ़ोतरी से आम लोग काफी परेशान हो गए हैं. लिहाजा, सरकार ने लोगों को सब्जियों की महंगाई से राहत देने के लिए बड़ा कदम उठाया है. दरअसल, मोदी सरकार ने प्याज की कीमतों को काबू करने के लिए बफर स्टॉक जारी किया है. उपभोक्ता मामलों के मंत्रालय ने कहा कि टमाटर और आलू की कीमतों को कम करने के प्रयास भी लगातार जारी हैं.

प्‍याज की औसत थोक दर 30 रुपये प्रति किग्रा

अगस्त 2021 के आखिर से ‘पहले आओ-पहले पाओ’ के आधार पर मंडियों में प्याज के स्टॉक को उचित तरीके से जारी किया जा रहा है. इससे न केवल प्याज की कीमतों को कम करने में मदद मिलेगी बल्कि न्यूनतम भंडारण नुकसान भी सुनिश्चित होगा. इसी का नतीजा है कि 14 अक्टूबर को महानगरों में प्याज की खुदरा कीमत 42 से 57 रुपये प्रति किग्रा के दायरे में पहुंच गई है. वहीं, प्याज की अखिल भारतीय औसत खुदरा कीमत 37.06 रुपये प्रति किलोग्राम थी, जबकि औसत थोक दर 30 रुपये प्रति किलोग्राम थी.

चार महानगरों में प्‍याज की खुदरा कीमत

खुदरा बाजारों में 14 अक्टूबर को प्याज की कीमत चेन्‍नई में प्याज 42 रुपये प्रति किग्रा, दिल्ली में 44 रुपये, मुंबई में 45 रुपये और कोलकाता में 57 रुपये प्रति किलोग्राम पर रही. खाद्य और उपभोक्ता मामलों के मंत्रालय ने बताया कि प्याज का बफर स्टॉक उन राज्यों में जारी किया जा रहा है, जहां कीमतें अखिल भारतीय औसत से ऊपर हैं और कीमतें पिछले महीने के मुकाबले बढ़ रही हैं. मंत्रालय के मुताबिक, 12 अक्टूबर 2021 को दिल्ली, कोलकाता, लखनऊ, पटना, रांची, गुवाहाटी, भुवनेश्वर, हैदराबाद, बेंगलुरु, चेन्‍नई, मुंबई, चंडीगढ़, कोच्चि और रायपुर के बाजारों में कुल 67,357 टन प्याज जारी किया गया.

Loading...

About sonali