कश्मीरी पत्थरबाजों को सबक सिखायेंगे कानपूर के पत्थरबाज़ , सेना बनी , ट्रेनिंग चल रही है !!!

(Pi Bureau)

 

कानपूर : कश्मीर सहित समूची घाटी में चल रही हिंसक झडपे और सेना और अर्धसैनिक बलों पर पत्थर मारने की घटना के बीच कश्मीर में एक गतिरोध कायम है |हलाकि आज मुख्यमंत्री मंत्री महबूबा ने साफ़ साफ़ शब्दों में कहा कि जारी गतिरोध को केवल प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ही दूर कर सकते है | कश्मीर में चल रही पत्थरबाज़ी का देश भर में व्यापक विरोध हो रहा है |

इसी बीच कानपूर में जनसेना के संस्थापक महंत अरुण पुरी चैतन्य जी महाराज गंगा किनारे अपने दस्ते के लोगो को पत्थर मारने की ट्रेनिंग दे रहे है | इस ट्रेनिंग के दौरान शहर के करीब 1200-1400 लोग शामिल हुये | गंगा किनारे सिद्धनाथ घाट पर चल रही इस ट्रेनिंग में बड़े पैमाने युवा महिला और छात्र शामिल हुये , और महंत जी से पत्थर फेंकने की ट्रेनिंग ली | खास बात ये है कि युवाओं का ये जत्था 7 मई को एक ट्रक पत्थर के साथ कश्मीर घाटी के लिए रवाना होंगे |

 

जनसेना के संस्थापक अरुण पुरी चैतन्य जी महाराज ने बताया बताया कि मेरे एक से डेढ़ हजार अनुयायी हैं, जो कश्मीर घाटी जाने के लिए तैयार हैं | जो 7 मई को कश्मीर के लिए रवाना होंगे. उन्होंने बताया कि मैंने एक ट्रक पत्थर तुड़वाकर रखा है, जिसे हम अपने साथ वहां लेकर जाएंगे |

महंत जी बताया कि उन्होंने शहर के हर वार्ड से करीब 10 -10 ऐसे चुनिदा पत्थरबाज चुने हैं, जिनका निशाना अचूक है |  हमने उन युवाओं को इस ट्रेनिंग में शामिल किया है, जो अपने देश के लिए मर-मिटने को तैयार हैं| वहीं संस्था ने कश्मीर जाने के लिये सभी तैयारी पूरी कर ली है और जिला प्रशासन के माध्यम से प्रधानमंत्री को पत्र भेजकर इसकी अनुमति भी मांगी थी लेकिन अभी तक कोई जबाव नही आया है.

प्रधानमंत्री की तरफ से कोई जवाब न आने की स्थिति में महंत जी ने निर्णय लिया है कि वह हल हाल में कश्मीर जायेंगे और स्थिति को सामान्य करने तक वही रहेंगे | और आतंकवादियों के ईंट का जवाब पत्थर से देंगे | उन्होंने कह कि वह कश्मीर के लाल चौक पर विजय युद्ध के महायज्ञ का भी आयोजन करेंगे जिसमे देश भर का संत समाज जुटेगा |

Loading...