टीपी जोशी को निजी सचिव का पड़ भार . दीपक व अपर निजी सचिव काशीनाथ हटाये गये !!!

(Pi Bureau)

 

लखनऊ : मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अपने निजी सचिव दीपक श्रीवास्तव और अपर निजी सचिव काशीनाथ तिवारी को हटा दिया है। उनकी जगह टीपी जोशी को मुख्यमंत्री का निजी सचिवे बनाया गया है , हटाये गए अधिकारियो की लगातार शिकायतें आ रही थी । इस मामले को लेकर सप्ताह भर से यह र्चचा चल रही थी कि पंचम तल से कुछ लोग हट सकते हैं। इन दोनों अधिकारियों को हटाने के बाद गोपन विभाग में तैनात टी.पी. जोशी को मुख्यमंत्री का नया निजी सचिव बनाया गया है।सचिवालय के पंचम तल पर तैनात इन दोनों निजी सचिवों के अचानक हटाये जाने को लेकर सचिवालय में तरह-तरह की र्चचा है। सचिवालय का एक वर्ग जहां इसे पंचम तल पर तैनात सचिवों के बीच का वर्चस्व की जंग मान रहा है तो दूसरा इसे भ्रष्टाचार से जोड़ देख रहा है। निजी सचिवों को हटाये जाने के पीछे पंचम तल पर तैनात सचिवों में आपसी वर्चस्व की जंग का नतीजा भी माना जा रहा है। हटाये गये दोनों निजी सचिव व कई अन्य अधिकारियों का आरोप है कि अजय सिंह व पीताम्बर सिंह यादव बीते पांच साल से पंचम तल पर तैनात हैं। नयी सरकार आने के बाद ये लोग और मजबूत हो गये। इस बात का दीपक श्रीवास्तव और काशीनाथ तिवारी खुलकर विरोध कर रहे थे। इस विरोध के कारण ही सचिवों के पहले गुट ने मुख्यमंत्री से मिलकर गंभीर शिकायत की, जिसके बाद मुख्यमंत्री ने इन दोनों निजी सचिवों को हटाने का फरमान सुना दिया। बताया जा रहा है कि हटाये गये मुख्यमंत्री के निजी सचिव दीपक श्रीवास्तव पूर्व प्रमुख सचिव श्रम शैलेष कृष्ण के साथ भी रहे हैं। हाल ही में श्रम विभाग की सचल पालना गृह की सीबीआई जांच की संस्तुति की गयी है। जिस समय यह योजना संचालित थी, उस समय दीपक श्रीवास्तव साथ थे। इसके अलावा दीपक श्रीवास्तव सपा सरकार के पूर्व मंत्री ब्रह्माशंकर त्रिपाठी के निजी सचिव भी थे। किसी बात की गंभीर शिकायत पर मंत्री श्री त्रिपाठी ने स्वयं दीपक कुमार को हटा दिया था।

Loading...