बिहार : लालू की रैली में समर्थकों का उमड़ रहा हुजूम, रैली का कार्यक्रम

पटना । बिहार की राजधानी पटना के ऐतिहासिक गांधी मैदान में राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) की ‘देश बचाओ-भाजपा भगाओ रैली’ कुछ ही देर में शुरू होने जा रही है। राजद की इस रैली में आज आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव और बिहार के उप मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव अपनी ताकत दिखाएंगे। सुबह से ही पटना के गांधी मैदान में समर्थकों का हुजूम उमड़ रहा है। जेडीयू के बागी नेता और राज्यसभा सांसद शरद यादव भी मंच पर मौजूद होंगे। आपको बता दें कि जेडीयू ने कहा है कि अगर शरद रैली में जाएंगे तो उन्हें पार्टी से अलग समझा जाएगा।

लाइव अपडेट्स
10:30 AM- गांधी मैदान में पहुंचने लगा लालू समर्थकों का रैला, छोड़े जा रहे हैं पटाखे
10:15 AM- नाराज शरद ने कहा, असली जेडीयू हम हैं और इसे साबित करेंगे
10:00 AM-पटना रैली में आए कुछ लोगों ने इनकम टैक्स चौराहे पर की फायरिंग, पुलिस से भिड़े
09:45 AM- जेडीयू ने कहा कि लालू प्रसाद को रैली में अपनी संपत्ति का भी मंच से खुलासा करना चाहिए। जनता के समक्ष दस्तावेजों के आधार पर बताना चाहिए कि उन्होंने हजारों करोड़ की संपत्ति कैसे व कहां से बनाई।
09:30 AM- पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी, यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव, कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद के अलावा शरद यादव ने रैली में भाग लेने की सहमति दी है।
09:15 AM- नेता विपक्ष नेता तेजस्वी प्रसाद यादव और पूर्व स्वास्थ्य मंत्री तेज प्रताप यादव भी होंगे
09:00 AM- गांधी मैदान पहुंचने लालू समर्थकों का रैला

दोपहर 12 बजे शुरू होगी रैली
पार्टी सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार वक्ताओं की संख्या अधिक होने के कारण रैली दिन के 12 बजे से ही शुरू हो जाएगी। पार्टी प्रमुख लालू प्रसाद पौने बारह बजे रथ पर सवार होकर दस सर्कुलर रोड से निकलेंगे और सीधे मंच तक पहुंचेंगे। उनके साथ प्रतिपक्ष के नेता तेजस्वी प्रसाद यादव और पूर्व स्वास्थ्य मंत्री तेज प्रताप यादव भी होंगे।
पटना रैली: लालू की RJD से अलग दिखेगी तेजस्वी की RJD, जानें क्यों
दूसरे दलों के नेताओं में पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी, यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव, कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद के अलावा शरद यादव ने रैली में भाग लेने की सहमति दी है। राकांपा के तारिक अनवर, कांग्रेस के सीपी जोशी, झारखंड विकास मोर्चा के बाबूलाल मरांडी, झारखंड मुक्ति मोर्चा के हेमंत सोरेन और डीएमके के नेता भी आएंगे।

अखिलेश शामिल होंगे, मायावती नहीं
रैली में यूपी से समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव तो शामिल होंगे लेकिन बसपा सुप्रीमो मायावती नहीं आएंगी। अखिलेश रैली के लिए 11 बजे पटना के गांधी मैदान में पहुंचेंगे तथा इस जनरैली में भाग लेने के बाद अपराह्न दो बजे लखनऊ के लिए रवाना हो जाएंगे। बसपा की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती को भी लालू ने रैली में शामिल होने का न्योता दिया था। उनका कहना है कि गठबंधन का बनना और टूटना सीटों के बंटवारे पर निर्भर होता है। कई बार सीटों के बंटवारे को लेकर भी गठबंधन टूट जाता है। इसलिए सीटों के बंटवारे से पहले वह कोई भी मंच साझा नहीं करेंगी।

जदयू ने कहा कि लालू प्रसाद को रैली में अपनी संपत्ति का भी मंच से खुलासा करना चाहिए। जनता के समक्ष दस्तावेजों के आधार पर बताना चाहिए कि उन्होंने हजारों करोड़ की संपत्ति कैसे व कहां से बनाई। लालू प्रसाद को लिखे खुले पत्र में जदयू प्रवक्ता नीरज कुमार ने कहा कि 22 महीने के सत्तासुख के बाद राजद का असली स्वरूप सामने आने लगा है। राजद की यह ‘अवैध संपत्ति बचाओ’ रैली है। इसलिए बेनामी संपत्ति पर राजद को खुलासा करना चाहिए। जहां-जहां मकान है, वहां का बालू-मिट्टी भी जनता को दिखाएं।
जदयू प्रवक्ता ने लालू प्रसाद के पास 10 हजार करोड़ की बेनामी संपत्ति का आरोप लगाते हुए कहा कि भूमिहीनों के बीच जमीन का पर्चा बांटें। रैली में आने वालों को ऐसा प्रशिक्षण दें कि आम-अवाम भी आपके बेटे तेजस्वी यादव की तरह ही 26 साल में हजारों करोड़ का मालिक बन जाए। प्रवक्ता ने कहा कि उम्मीद है कि उनकी सलाह को अन्यथा न लेकर लालू प्रसाद इस पर अमल करेंगे।
लालू के राजद से अलग दिखेगा तेजस्वी का राजद

‘भाजपा भगाओ, देश बचाओ’ रैली के बहाने राजद रविवार को अपनी ताकत का अहसास कराएगा। न सिर्फ भीड़ के मामले में, बल्कि देश के गैर भाजपा दलों में अपनी पैठ के मामले में भी। इसी के साथ पार्टी का प्रयास है कि तेजस्वी का राजद और लालू के राजद से कुछ अलग दिखे। लिहाजा इस बार पटना में लोगों का जुटान शनिवार को ही शुरू हो जाने के बावजूद सबकुछ शांतिपूर्वक रहा। न कहीं ढोल नगाड़े बजे और न ही मनोरंजन के लिए फूहड़ संगीत की व्यवस्था थी।

राजद प्रमुख लालू प्रसाद ने रैली की घोषणा तब की थी जब महागठबंधन में जदयू शामिल था। उसी समय यह तय हो गया था कि इसी रैली से भाजपा का विकल्प तलाशने की राह निकलेगी। लेकिन नीतीश कुमार एनडीए में शामिल हो गए और कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और राहुल गांधी रैली में भाग नहीं ले रहे हैं। कांग्रेस के दो दूसरे बड़े नेता भाग लेने के लिए पटना आ भी रहे हैं, लेकिन बसपा ने पूरी तरह कन्नी कटा ली है। बावजूद देशभर के दो दर्जन से अधिक बड़े नेताओं का जुटान पटना में शायद पहली बार होगी।
रैली की पूरी तैयारी में शुरू से प्रतिपक्ष के नेता तेजस्वी प्रसाद यादव जुटे हैं। राज्यभर में सभाकर लोगों को पटना आने का न्योता भी उन्होंने ही दिया है। हालांकि बड़े नेताओं को न्योता राजद प्रमुख ने दिया है। ऐसे में भीड़ का आकलन तेजस्वी यादव के जनाधार का भी संकेत देगा।

Loading...